बेर्तोल्त ब्रेष्ट

अच्छाई से तफ्तीश

Posted on Updated on

पैर आगे बढाओ : हमने सुना है
कि तुम अच्छे इंसान हो |
तुम्हे ख़रीदा नहीं जा सकता, परन्तु बिजली
जो घर पे गिरती है,
भी नहीं खरीदी जा सकती |
तुम उसपर पक्के हो जो तुमने कहा |
लेकिन क्या कहा था तुमने ?
तुम ईमानदार हो | तुम्हारा मतलब तुम्हारा नजरिया |
कौनसा नजरिया ?
तुम दलेर हो |
किसके खिलाफ ?
तुम दानिशमंद हो |
किसके लिए ?
तुम्हें खुद के फायदे से मतलब नहीं |
तो किसके फायदे से मतलब है ?
तुम अच्छे दोस्त हो |
क्या तुम अच्छे लोगों के भी दोस्त हो ?
तो सुनो : हम जानते हैं |
तुम हमारे दुश्मन हो | इस वजह से
हम तुझे दीवार के साथ खड़ा करेंगे |
लेकिन तुम्हारी खूबियों और गुणों के लिहाज से
हम तुझे बढ़िया  दीवार के साथ खड़ा करेंगे
और बढ़िया  बन्दूक की बढ़िया  गोली से
उड़ा देंगे
और बढ़िया बेलचे के साथ बढ़िया जमीन में
दफ़ना देंगे |

translated from Brotolt Brecht’s “The Interrogation of the Good”

बेर्तोल्त ब्रेष्ट की कलम से

Posted on Updated on

जनता की  रोटी

इंसाफ जनता की रोटी है

वह कभी  काफी है, कभी नाकाफी

कभी स्वादिष्ट है तो कभी बेस्वाद

जब रोटी दुर्लभ है: तब चारों ओर भूख है

जब  बेस्वाद है, तब असंतोष

खराब इंसाफ को फेंक डालो
बगैर प्यार के जो  भूना  गया हो
ओर बिना ज्ञान के गून्दा गया हो !
भूरा, पपड़ाया महक हीन इंसाफ
जो देर से मिले , बासी इंसाफ है !

यदि रोटी सुस्वादु ओर भरपेट है
तो बाकी भोजन के बारे में माफ किया जा सकता है
कोई आदमी एक साथ तमाम चीज़ें नहीं छक सकता |

इंसाफ की रोटी से पोषित
ऐसा काम हासिल किया जा सकता है
जिससे पर्याप्त मिलता है |

जिस तरह रोटी की जरूरत रोज़ है
इंसाफ की जरूरत भी रोज़ है
बल्कि दिन में कई-कई बार भी
उसकी ज़रूरत है |

सुबह से रात तक, काम पर, मौज लेते हुए
काम, जो कि  एक तरह का  उल्लास है
दुख के दिन ओर सुख के दिनों में भी
लोगों को चाहिए
रोज़-ब-रोज़ भरपूर, पौष्टिक, इंसाफ की रोटी |

इंसाफ की रोटी जब इतनी महत्वपूर्ण है
तब दोस्तो कौन उसे पकाएगा ?
दूसरी रोटी कौन पकाता है  ?
दूसरी रोटी की  तरह
इंसाफ की रोटी भी
जनता के हाथों पकनी चाहिए
भरपेट, पौष्टिक रोज़-ब-रोज़ !!