अक्टूबर क्रांति

तल्खी से लिखी आपकी टिपण्णी. शुक्रिया

Posted on Updated on

दिनेश कुमार बिस्सा की एक टिपण्णी बड़ी दिलचस्प रही, हालाँकि उन्होंने बड़े व्यंग्यात्मक अंदाज से मार्क्सवाद पर तीर छोड़े हैं. लेकिन उनकी टिपण्णी उन लोगों की टिप्पणियों से कहीं बेहतर है जो मार्क्सवाद में आस्था रखते हैं, जबकि मार्क्सवाद आस्था का नहीं कर्मों का विज्ञान है. चलिए, दिनेश जी की टिपण्णी से शुरू करते हैं :

“मार्क्सवाद से समाज मैं असमानता मिट कर समानता आ जाती है, भूखे के पेट में रोटी, बेरोजगार के हाथ में काम, नंगे के तन पर कपडा, बच्चों के हाथ में कापी-कलम. गरीबी मिट कर सभी लोग अमीरी के सागर में गोते लगाने लगते हैं, मतलब सब कुछ  अच्छा ही अच्छा. उदाहरण : कम्युनिस्ट देशों रूस, क्यूबा, चीन. भारत के दो महान राज्य, केरल और पश्चिम बंगाल…. इन जगहों में गरीबी और असमानता, शोषण आदि के दर्शन भी नहीं होंगे. दिन में चिराग लेकर ढूंढ लो, तो भी…दिनेश कुमार बिस्सा.

दिनेश भाई, हम यह अंदाजा तो नहीं लगा सकते की आपके घोर मार्क्सवादी विरोध के पीछे आपका अनुभव या फिर आपकी मिडल क्लास की आदर्शवादी-समतावादी संभावनाओं की पूर्ति में मार्क्सवाद के इतिहास ( इतिहास वह नहीं जो है, बल्कि वह जो आपका मन, आपकी सहूलत से गढ़ना चाहता है ) का खरा न उतरना रहा है या फिर कुछ पूर्वाग्रह जो मिडल क्लास की जीवन स्थितियों से उनकी विचार शैली में आ जाते हैं. लेकिन इससे हमें अपना दृष्टिकोण, पाठकों के सामने स्पष्ट करने का मौका मिल गया, जिसका प्रेरणा स्रोत तल्खी से लिखी, आपकी यह टिपण्णी है. शुक्रिया

बीसवीं सदी की क्रांतियों और परिणामस्वरूप समाजवाद को लागू करने की मुश्किलें, समाजवाद के भीतर बुर्जुआ वर्ग का होना, अवसर मिलते ही, उन द्वारा मजदूर वर्ग के अधिनायकवाद के स्थान पर फिर से बुर्जुआ वर्ग के अधिनायकवाद की स्थापना (वह भी लाल झंडे तले, कम्युनिस्ट भीतरघातियों द्वारा जो शुद्ध से शुद्ध कम्युनिस्ट पार्टी में होते हैं, और हम यह दावा नहीं करते कि भविष्य में ऐसा नहीं होगा. यह काम हम उन लोगों के लिए छोड़ देते हैं जिन्हें अपने और अपनी पार्टियों के शुद्ध होने पर गर्व है) हमारा फ़िलहाल इतना ही आग्रह है कि पूंजीवाद अपने विकास के उस चरण पर पहुँच चुका है, जहाँ इसकी अप्रासंगिगता स्पष्ट दिखाई देती है.

जहाँ तक मार्क्सवाद के प्रासंगिक होने का अर्थ है, तो यह पहले से कहीं अधिक प्रासंगिक है. विश्व के हर कोने में पूंजीवादी संबंधों का वर्चस्व हो चुका है. बेशक सबसे धनाढ्य कार्पोरेशनों के पास विज्ञान और उच्च तकनीक से सुपर मुनाफा कमाना संभव है, लेकिन तीव्र गति के युग में, विज्ञान और तकनीक अन्य मझौले पूंजीपतियों के पास पहुँच कर उनका सुपर मुनाफा बंद कर देती हैं. ( सुपर मुनाफे से आशय है कि उच्च तकनीक द्वारा कम मजदूरों से अधिक उत्पादन करना जिसके परिणामस्वरूप सुपर मुनाफे का स्रोत कमजोर पूंजीपति वर्ग के बेशी मूल्य का साझा पूल होता है)

आपने यूनानी देवता सफिंक्स की मिथ तो सुनी ही होगी. वे एक पहेली द्वारा ऐथंज़ शहर की रक्षा किया करते थे. शहर में आनेवाले अजनबी को पहेली हल करनी होती थी. असफलता का मतलब था, मौत. मार्क्स ने पूंजीवाद की मौत के लिए कोई पहेली तो गढ़ी नहीं है, लेकिन उस पहेली को हल किया है, जिसे जो  भी जान लेता है, उसे पूंजीवाद की मौत स्पष्ट दिखाई देने लगती है. चलिए हम उस पहेली को आपके सामने रखते हैं.

बड़े पूंजीपतियों ने विज्ञान और तकनीक की मदद से सुपर मुनाफा कमाना शुरू कर दिया. लेकिन देर सवेर वह छोटे पूंजीपतियों के पास पहुँच गयी. उन्हें उच्चतर तकनीक की आवश्यकता पड़ी. लेकिन जल्दी ही यह भी दूसरों के पास पहुँच गयी. इस क्रिया का परिणाम यह हुआ कि उत्पादन, बिना मजदूर के होने लगा. (हालाँकि, ऑटोमेटिड से ऑटोमेटिड मशीन के लिए व्यक्ति की आवश्यकता होगी, लेकिन इतना दिखाई दे ही रहा है कि मजदूरों की संख्या कम से कम की जा सकती है और उनके शोषण की दर में इंतिहा बढौतरी की जा सकती है जोकि की जा चुकी है और की जा रही है) अब पूंजीपति बिना मजदूर की मदद से (या उनकी न्यूनतम  संख्या से) उत्पादन कर रहे हैं. समस्या यह है कि,

पूंजीपति मंडी में जिंसों को बेचकर मुनाफा अर्जित करना चाहता है, लेकिन वहां  कोई ऐसा व्यक्ति नहीं जिसके पास क्रय करने के लिए धन हो, क्योंकि इसके लिए, धन तो मजदूरों के पास होना चाहिए था. लेकिन उन्हें कौन दे क्योंकि वे काम तो करते नहीं. मुट्ठीभर पूंजीपति और उनके पास विशाल उत्पादन ! हाँ वे स्वयं उपभोगता बनकर, एक दूसरे के उत्पादन का थोडा बहुत उपभोग कर सकते हैं, लेकिन यहाँ तो विज्ञान और तकनीक की मदद से चंद मजदूरों ने जो पैदा किया है, उसके लिए कम से कम आठ सौ करोड़ व्यक्तियों की आवश्यकता है और वे (पूंजीपति) हैं आठ करोड़. यही पूंजीवाद का संकट है, जो फूटता रहता है और उनके चाटुकार बुद्धिजीवी पूंजीपतियों को इसके अन्दर नहीं, बाहर अमूर्त चीजों में होने की ओर, इशारों द्वारा उन्हें भरमाते रहते हैं.

2008 से फूटी महामंदी वैसे ही  बरक़रार है और विकसित राष्ट्रों की अर्थव्यवस्थाएं डब्बल डिप्रेशन की और बढ़ रही हैं. भारत का मध्यम वर्ग खुश है कि यहाँ आठ प्रतिशत की विकास दर बनी हुई है (हालाँकि इस विकास से पैदा हुई भूख ने संकटों से घिरे नेपाल और पिछड़े पाकिस्तान को भी पीछे छोड़ दिए है – बकौल स्वतन्त्र एजेंसियों की ताज़ा रिपोर्टों के अनुसार) लेकिन हमारे एक मिडिल क्लास बुद्धिजीवी इस विकास की दर से इतने आत्ममुग्ध हैं कि उनको विश्व बैंक और अंतर्राष्ट्रीय मुद्रा कोष का यह आकलन गलत लगता है कि यह दर केवल 2015 तक जारी रहने वाली है, उसके बाद धीमी गति से 2022 तक और बस उसके बाद तो घिसटेगा.

दिनेश भाई या उनकी ही तरह के मिडल क्लास के लोगों से हमारा आग्रह है कि मार्क्सवाद उनके लिए नहीं है क्योंकि मिडल क्लास चरित्र के लिहाज से बुर्जुआ विचारधारा की पैरोकार होती है, लेकिन बुर्जुआ वर्ग द्वारा पैदा की गयी होड़, उनकी छोटी सी पूंजी को हड़प कर लेती है, तो छटपटाता हुआ यह वर्ग, अपने कुछ रेडिकल प्रतिनिधियों द्वारा मार्क्सवाद से सहानुभूति की उम्मीद पाल लेता है.

इसके अलावा कुछ लोग अपनी उच्च बौद्धिक क्षमताओं के कारण भी मार्क्सवाद की और खींचे चले आते हैं. ध्यान रहे, बौद्धिक क्षमता आसमान से पैदा नहीं होती, इसके ऐतिहासिक विकास, अध्ययन-चिंतन के लिए मेहनतकश वर्ग द्वारा मुहैया करवाई गयी अतिरिक्त मूल्य की लूट रही है. उनके ज्ञान और चिंतन का स्रोत भी श्रमिक वर्ग ही रहा है, जिसका कर्ज चुकाने की उनकी लालसा, उन्हें इधर खींच लाती है.

मगर मार्क्सवाद मिडल क्लास का नहीं, सर्वहारा वर्ग के कर्मों का विज्ञान है. इसका इतिहास कठमुल्लाओं का इतिहास नहीं है. अगर मिडल क्लास से आये लोगों ने,संजीदगी से, इसका चिन्तनं-मनन किया है तो वे निराश नहीं हुए हैं, बल्कि एक नए इन्सान के रूप में, उनका पुनर्जन्म ही हुआ है. स्वयं मार्क्स, एंगेल्स, लेनिन, माओ इसके उदाहरण हैं. उन्होंने न केवल मजदूर वर्ग की मुक्ति के इस विज्ञान को अपनाया बल्कि मिडल क्लास के समाजवाद, नैतिकता और मूल्यों की गंदगी से इसकी हिफाजित के लिए संघर्ष किया.

दिनेश की समस्या यह है कि वे एक पैरे में मार्क्सवाद के इतिहास को समेट देना चाहते हैं. उनके इस पैरे की विषय-वस्तु को दो हिस्सों में  बांटा जा सकता है. एक मार्क्सवाद का समतावादी, गरीबी रहित सभी को अमीरी के ठाठ-बाठ मुहैया करवाने वाला ‘पंडोरा का डिब्बा’ और दूसरा इस पंडोरे के डिब्बे से निकला वह इतिहास जो रूस से शुरू होकर भारत के पश्चिम बंगाल और केरल तक का है. अंबानियों और टाटाओं के मुकाबले मिडल क्लास गरीब हो सकती और समाजवाद से सहानुभूति की उम्मीद पाल सकती है. फैशनेबुल तौर पर, मजदूर वर्ग के आंदोलनों के उभार के दौर में, वे धारा में खींचे चले आते हैं. यह ऐसे होते है जैसे आप अपने रिश्तेदार के घर जाएँ और उस घर के सदस्य अपने घर के निर्माण में व्यस्त हों. आपकी उनके घर से कोई दिलचस्पी न थी लेकिन उनके साथ आप भी खिंच लिए और लगे हाथ बंटाने. पर निर्माण कार्य पूरा होते ही, घरवाले घर में बसने लगे लेकिन आप फालतू करार दे दिए गए.

वैज्ञानिक समाजवाद सर्वहारा वर्ग का अधिनायकवाद होता है जिसमें मिडल क्लास और उसके बुद्धिजीवियों के एक हिस्से को घुटन होने लगती है. अपने  वर्गीय दृष्टिकोण से पैदा हुए दिग्भ्रमण के कारण, उनका जल्दी ही मोहभंग हो जाता है. वे पुरानी  स्थिति को बहाल करने के लिए छटपटाने लगते हैं और कई बार उनकी कोशिश बुर्जुआजी की पुनर्बहाली के काम आती है, जैसा कि इतिहास में हुआ है.

फिर भी अगर दिनेश भाई जैसे लोग, संजीदगी से मार्क्सवाद को अपनाना चाहते हैं तो उन्हें इस ब्लॉग की और से सुझाव है कि वे मार्क्सवाद पर मार्क्स, एंगेल्स, लेनिन, माओ आदि की रचनाये पढ़ें. इनसे उन्हें पता चलेगा कि कैसे मार्क्सवाद उन लोगों से जो गरीबी को इस तरह से मिटाकर… और सभी के लिए अमीरी की स्थिति की यूटोपिया बातें करते थे…टक्कर लेकर और विरोध में विकसित हुआ है. लाल झंडे का मतलब मार्क्सवाद नहीं होता. इसके इतिहास में वे सभी स्थितियां शामिल हैं जिन्हें संशोधनवाद, सिंडीकेट्वाद ,ट्रेड यूनियनवाद,अर्थवाद, मिडल क्लास का अवसरवाद,कम्युनिस्टों का उदारतावाद ,अतिवामपंथवाद , दुस्साहसवाद , दायें-बाएं भटकाव, सोवियत यूनियन और चीन की क्रांतियों के बाद हुए तीक्ष्ण वर्ग-संघर्ष और परिणामस्वरूप मजदूर वर्ग की लाल झंडे तले बुर्जुआ वर्ग से शिकस्त और समाजवाद (जिसके बारे में मिडल क्लास सोचती है कि यह कोई उनके चौखटे के अनुसार कोई पकी-पकाई स्थायी चीज हो, जिसकी कोई समस्या न हो) और इस समाजवाद से साम्यवाद में संक्रमण और सर्वहारा वर्ग का अधिनायकवाद वगैरा, वगैरा. अगर आप को यह सब भारी-भारी लगता है, तो मुआफ कीजियेगा, यह सब आपके लिए नहीं है.

हम राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर मजदूर वर्ग के संघर्षों की बदौलत बदली स्थितियों, विशेषरूप से, सोवियत यूनियन और चीन की क्रांतियों की प्राप्तियों और उनकी हार को स्वीकार करते हैं. सर्वहारा वर्ग द्वारा विकसित किये गए उसके नेताओं और बदले में इन नेताओं द्वारा सर्वहारा वर्ग की सेवा को तस्लीम करते हैं, भले ही, इन नेताओं द्वारा ऐसी गलतियाँ भी हुई हैं  जिनसे बचा जा सकता था. लेकिन उनकी गलतियाँ समाज विज्ञानियों की गलतियाँ थी जिनका होना स्वभाविक होता है लेकिन दोहराना बेवकूफी. जीत-हार की इस अमीर विरासत का मालिक सर्वहारा वर्ग है जो अच्छी तरह जनता है कि उसने इसका कैसे समाहार करना है.

हम साफ़ साफ़ बता देना चाहते हैं कि इक्कीसवीं सदी बीसवीं सदी से पूर्णतया भिन्न है. विश्व के पिछड़े से पिछड़े हिस्से में भी तत्व रूप से सामंतवाद गायब है और वह पूंजीवाद के पैंतरे के अनुसार गतिमान है. भारत के आदिवासी बहुल और पिछड़े अफगानिस्तान जैसे क्षेत्रों का वास्ता जागीरदारों से नहीं देशी-विदेशी पूंजीवाद और साम्राज्यवाद से है. विज्ञान और तकनीक के विकास में पूंजीवादी संबंध बेड़ियाँ बन गए हैं. उच्च वैज्ञानिक तकनीक के विकास ने सर्वहारा वर्ग की उत्पादन क्षमता में इंतहा बढौतरी की, लेकिन बुर्जुआजी ने श्रम सघनता को लागू किया है. अंतर्राष्ट्रीय स्तर पर, 1970 के दशक के बाद, पूंजीपतियों के पास एकत्रित होने वाली वित्तीय पूंजी की मात्रा में भी इंतहा बढौतरी हुई है, जिसके उत्पादन कार्य में लगने की संभावना निशेष हो चुकी है. लेकिन श्रमिक वर्ग की, इसके बिलकुल उल्ट, आमदनी में गिरावट आई है. पूंजीपतियों की समस्या यह है कि उनको उनकी  महत्त्वाकांक्षानुसार उपभोगता वर्ग नहीं मिल पा रहा. मिलेगा भी कैसे क्योंकि श्रमिक वर्ग द्वारा पैदा किये मूल्य का अधिकतर हिस्सा तो पूंजीपति वर्ग की जेब में सट्टेबाजी और जुआरी-जुगाड़ों में मशगूल है. हम राष्ट्रीय जनवादी क्रांतियों की नहीं, नयी समाजवादी क्रांतियों की पूर्वबेला में जी रहे हैं.

और अंत में मिडल क्लास के नौजवानों से  : आपके आदर्श अमेरिका और यूरोप ने तस्लीम कर लिया है कि नवउदारीकरण उनकी बेवकूफी थी. लेकिन हमारा मानना है कि यह सब नाटक है. नवउदारीकरण का अर्थ था कि पूंजीवादी खुल्ले मुकाबले में श्रमिक-वर्ग की रगों से खून के अंतिम कतरे को निचोड़ लेना. लेकिन पूंजीवाद के आन्तरिक विरोधाभास होते है, जिन्हें उनके बुद्धिजीवी बाहर तलाशते रहते हैं और मुसीबत पड़ने पर राज्य जो उनका सच्चा सेवादार है, से लोगों की बचतों पर डाका डालने के लिए, बैलआउट मांगते हुए बिलकुल नहीं शर्माते. उनकी खुले मुकाबले की श्रेष्टता का भंडाफोड़ हो जाता है.

भारत जैसी ही चीन, ब्राजील, दक्षिण अफ्रीका आदि अर्थव्यवस्थाओं के में जी रहे  मिडल क्लास के गगनविहारियों के पास 2022 तक ऊँची उड़ान भरने का मौका है. हालाँकि उनके अधिकतर हिस्से को सर्वहारा वर्ग में तब्दील होते हुए देखा जा सकेगा. हमारी इस पीड़ा से लुत्फ़ उठाने का कोई मंशा नहीं है लेकिन आपसे प्रार्थना है कि आप चीजों को गति में देखने की आदत डालें. मार्क्सवाद वैसा सुहावना नहीं है, जिसका जिक्र दिनेश जी ने किया है. बल्कि इसके विपरीत कहीं अधिक पीड़ादायक है. लेकिन ये शब्द ‘सुहावना’ और ‘पीड़ादायक’ रिलेटिव हैं. इनके अर्थ बुर्जुआ वर्ग, मिडल क्लास और सर्वहारा के लिए न केवल अलग-अलग होते हैं बल्कि कई अवस्थाओं में विपरीत भी होते हैं.

पूंजीवादी व्यवस्था में अनाज का बेशी उत्पादन सड़ने के लिए शापग्रस्त है

Posted on Updated on

इतिहास से दो संदर्भों का जिक्र जरूरी है. पहला भारत के एक प्रधानमंत्री लाल बहादुर शास्त्री का, जिनका कहना था कि  अगर संपन्न लोग सप्ताह में एक बार व्रत रखें तो लाखों भूखे भारतियों का पेट भर सकता है और दूसरे लेनिन का जो अक्टूबर क्रांति के बाद उन किसानों से मिलते हैं, जिन्हें शिकायत होती है कि उनसे अनाज की जो मात्र उगाही गयी है, वह जायज नहीं है. शास्त्री जिस देश का प्रतिनिधित्व करते है उसके केंद्र में सत्ताधारी वर्ग का लालच है. उनका व्रत एक नौटंकी से बढ़कर नहीं है. दूसरी और जब किसान लेनिन को अपनी शिकायत दर्ज करवाते हैं तो लेनिन का  कहना है कि सचमुच उनका देश विपदा का मारा है. लेकिन फिर भी, वे उन किसानों को एक पत्र लिखकर देते हैं जिसमें उनसे उगाहे गए अनाज में से कुछ मात्रा का वापस होने का वचन होता है. किसानों के साथ अपनी मुलाकात के समापन पर वे उनसे कहते हैं  कि वैसे तो उनकी साझी रसोई का भोजन साधारण किस्म का होता है, लेकिन रसोइये का कहना है कि आज खाना ठीक बना है. इसलिए वे किसानों से आग्रह करते हैं कि वे साझी रसोई से खाना खाकर जाएँ. किसान खाना खाते हैं. किसानों का मत होता है कि जो खाना उन्होंने उस रसोई में खाया, वैसा घटिया खाना उन्हें जिंदगी में कभी नहीं खाया था. खैर, लेनिन भी उस रसोई में भोजन करने के लिए जाते हैं. किसान सोचते हैं कि लेनिन के लिए शायद कोई विशेष भोज की व्यवस्था हो. वे चोरी-चोरी रसोई के सुराखों से लेनिन को खाना खाते हुए देखते हैं. वे हैरान होते हैं कि लेनिन भी उसी घटिया खाने को मजे से खा रहे होते हैं. तब उनका मन पलटता है. वे लेनिन को उनका लिखा हुआ पत्रलौटा देते हैं.

हमारा इस प्रकार का कोई निष्कर्ष नहीं है कि शास्त्री, लेनिन के मुकाबले कम ईमानदार हैं. मगर दोनों के दृष्टिकोण में जो बुनियादी फर्क है वह यह कि एक उस निर्माणाधीन समाजवादी व्यवस्था का सेवक है जिसके हित मेहनतकश अवाम से जुड़े हुए हैं जबकि दूसरा अच्छी तरह से जानता है कि उसके देश का मेहनतकशों से कुछ भी लेनादेना नहीं है. यह देश जिस रास्ते पर चल रहा है वहाँ केवल परजीवी लोगों की कभी न संतुष्ट होनेवाली लालच की भूख है और वह इसी लालच की भूख का प्रतिनिधित्व करता है. दोनों देश युद्ध या युद्ध जैसी स्थिति का सामना कर रहे होते हैं. सोवियत यूनियन के लाल गार्ड अपने ही देश के प्रतिक्रियावादी दस्तों से लड़ रहे होते हैं जबकि भारत और पाकिस्तान के गरीब लोगों का आपसी युद्ध से कोई लेनादेना नहीं है. अलबता वहाँ के शासक वर्ग अपने देशों के बुनियादी मसलों से लोगों का ध्यान बांटने के लिए अवाम पर युद्ध थोपे हुए हैं.

मूख्य मुद्दे की ओर चलें. देश में जारी मौनसून की वजह से देश के कई निचले हिस्सों में बाढ़ का पानी भरने से सरकारी गोदामों और खुल्ले में रखा अनाज भीग कर सड़ने लगा. मीडिया ने जब इसे उजागर किया तो सुप्रीम कोर्ट की एक बेंच ने प्रश्न पूछा कि क्यों नहीं इस सड़ते हुए अनाज को गरीबों में मुफ्त बाँट दिया जाता ?

हमारी कार्यपालिका बुर्जुआ वर्ग की सच्ची सेवक है. लेकिन सुप्रीम कोर्ट के उपरोक्त सुझाव से भ्रम होता है कि शायद यह संस्था वर्गों की आपसी टक्कर से ऊपर – निष्पक्ष हो. ध्यान रहे सुप्रीम कोर्ट अनाज को तभी गरीबों में मुफ्त बांटने के लिए कहता है जब यह सड़ रहा होता है. सुरक्षित पड़े अनाज पर गरीब लोगों का कोई हक़ नहीं है. खैर, इससे इतना तो हुआ ही है कि पूंजीवादी व्यवस्था के प्रति बढ़ते हुए आक्रोश पर ठन्डे पानी के छींटे पड़ गए हैं.

जैसा कि अपेक्षित था, कृषि मंत्री शरद पवार ने अपनी चुप्पी को , एक न एक दिन, तोडना ही था. सो उन्होंने कह दिया कि अनाज भले ही सड़ता है तो सड़ जाये लेकिन इसे गरीबों में मुफ्त बाँटना संभव नहीं है. शरद पवार पर पूंजीवादी व्यवस्था की आत्मा मण्डी , जहाँ जिंसों का मूल्य उगाहा जाता है, को बचाने की जिम्मेदारी है. अगर अनाज को मुफ्त में बाँटने की परम्परा शुरू हो गयी तो मण्डी व्यवस्था कमजोर होकर तबाह भी हो सकती है, जोकि पूंजीवादी व्यवस्था की सेहत के लिए दरुस्त नहीं है.

थोडा सा इस व्यवस्था को भी समझा जाये. हमारे देश की खेती का पूंजीवादीकरण हो चुका है. सामंतवादी व्यवस्था जहाँ समाज का एक बड़ा हिस्सा किसानों के रूप में काम करता था, उसे अपने उत्पादन के एक हिस्से को, सामंतों और राज्य-व्यवस्था को, कर के रूप में, देना पड़ता था. बाकी बचे अनाज पर उसका हक़ होता था. अपनी रोटी की आवश्यकता पूरी करने के बाद जो अनाज बचता था, उसे वह मण्डी में बेच देता था. मण्डी में अन्य उत्पादक इसके खरीददार होते थे. जैसा कि हम जानते हैं कि मण्डी में जिंसों के आपसी विनिमय के लिए जरूरी शर्त जिंसों  के उत्पादन पर लगी श्रम-शक्ति की मात्रा का समान होना होता है. यह शर्त सामंतवादी व्यवस्था और पूंजीवादी व्यवस्था में, कमोबेश एक जैसी होती है.

लेकिन सवाल पैदा होता है कि पूंजीवादी व्यवस्था में क्योंकर ऐसा होता है कि एक तरफ भूखमरी और दूसरा तरफ गोदामों में सड़ता हुआ अनाज ? पूंजीवादी व्यवस्था का विश्लेषण करने पर मार्क्स इस नतीजे पर पहुंचे कि उत्पादक मशीनों और मजदूरों की सहायता से उत्पादन करवाते हैं. मशीनें और कच्चा माल उत्पादन प्रक्रिया के दौरान अपने भौतिक गुणों में तबदीली कर लेते हैं, परंतू उनके मूल्य में कोई बढौतरी नहीं होती. इसलिए मार्क्स मशीनों और कच्चे माल को स्थिर पूंजी कहते हैं. उत्पादन प्रक्रिया में उत्पादन से पहले का मूल्य ही नए उत्पाद में हस्तगत हो जाता है. इस क्रिया को अंजाम देने के लिए मनुष्य की श्रम-शक्ति दरकार होती है. इसे भी मण्डी से उन शर्तों पर ख़रीदा जाता जैसे स्थिर पूंजी खरीदी जाती है. अर्थात काम के एक दिन के लिए दरकार श्रम-शक्ति के पुन:उत्पादन पर खर्च हुई जीवनोर्पाजन वस्तुओं के मूल्य के बराबर. उत्पादन के दौरान यह भी नए उत्पाद में हस्तगत हो जाती है. लेकिन नए उत्पाद का मूल्य अपने पर आये सभी खर्चों से अधिक होता है. यह सब श्रम-शक्ति के कारण होता है जो अपने मूल्य से अधिक मूल्य पैदा करने का गुण रखती है. इसलिए इसे परिवर्ती पूंजी कहते हैं. फैक्ट्री की तरह यह नियम पूंजीवादी कृषि उत्पादन  पर भी लागू होता है.

काम के दिन के दौरान वह समय जो मजदूर अपने जीवनोर्पाजन वस्तुओं के मूल्य के बराबर मूल्य पैदा करने के लिए खर्च करता है, उसे जरूरी श्रम-समय कहते है. इसके अतिरिक्त लगे श्रम को बेशी श्रम-समय कहते हैं जिससे बेशी उत्पादन या बेशी मूल्य पैदा होता है.

इसे एक उदाहरण  से समझा जा सकता है. मान लो एक कार्य दिवस 10 घंटे का है. मजदूर 5 घंटों में अपने जीवित रहने के लिए जरूरी मूल्य को पैदा कर लेता है. अन्य 5 घंटे वह बेशी उत्पादन या बेशी मूल्य पैदा करने के लिए खर्च करता है तो,
शोषण की दर % = अतिरिक्त श्रम / जरूरी श्रम * 100
या 5 / 5 * 100 = 100 %

लेकिन मशीनों की रफ़्तार बढ़ाकर और तकनीक में होनेवाले निरंतर सुधार से मजदूर की उत्पादन क्षमता में इतनी अधिक बढौतरी हो चुकी है कि अपने जीवन निर्वाह के लिए जरूरी मूल्य को वह एक घंटे या इससे भी कम समय में पैदा कर लेता है. अगर वह जरूरी मूल्य को एक घंटे में पैदा करता है तो,

उसके शोषण की दर % = = अतिरिक्त श्रम / जरूरी श्रम * 100
या 9 / 1 * 100 =900 %

हम अपने मूल प्रश्न की ओर लोटते हैं कि अनाज सड़ क्यों रहा है ? क्यों नहीं गरीब इसे खरीद पा रहे ? उत्तर आसान है कि मजदूरों के शोषण की दर में बेशुमार बढौतरी ने उसकी  खरीद शक्ति को सीमित कर दिया है जबकि दूसरी ओर बेशी मूल्य के रूप में पूंजीपति वर्ग के पास बेशुमार दौलत इकठ्ठी हो चुकी है. पूंजीपति तो इतना अधिक अनाज खाने से रहा और मजदूर के पास इसे खरीदने के पैसे नहीं हैं !

सुप्रीम कोर्ट का यह कथन कि सड़ते हुए अनाज को गरीबों में बाँट दिया जाये , सीधा-साधा लगता है. लेकिन ऐसा है नहीं. इसे क्रियांविंत करने का मतलब होगा पूंजीपति वर्ग के पास मौजूद नोटों का मिटटी हो जाना. मण्डी में छाई मंदी का यही कारण होता है – जिसमें बाज़ार में वस्तुओं की भरमार होती है लेकिन कोई खरीदार नहीं होता, क्योंकि मूल्य का बड़ा हिस्सा तो पूंजीपति वर्ग के गल्लों में कैद होता है और मजदूर वर्ग की खरीदने की शक्ति संतृप्त हो चुकी होती है.

पूंजीवाद का इतिहास मण्डी में छाई मंदी से निपटने के लिए बेशी उत्पाद को समुद्र वगैरा में डंप करने के लिए कुख्यात रहा है. भारत में अच्छी मौनसून ने अनाज के और अधिक बेशी उत्पादन की संभावना पैदा की है जिससे अनाज को संभालने के लिए इस व्यवस्था को कई मुश्किलों का सामना करना पड़ता. हो सकता है पूंजीवाद की ‘मैनेजिंग कमेटी’ सरकार को इसे समुद्र में डंप करना पड़ता. बाढ़ ने उसके कार्य को आसान कर दिया था. लेकिन मीडिया की आपसी होड़ के चलते मामला पेचीदा हो गया. सुप्रीम कोर्ट ने देखा कि इससे जनता में आक्रोश बढ़ सकता है. सही मौके पर सही बयान दाग कर उसने पूंजीवादी व्यवस्था के प्रति अपनी सही सदभावाना ही दिखाई है.

सवाल पैदा होता है कि आखिर कब तक इस प्रकार के ठन्डे छींटों की बौछार से जनता के आक्रोश को दबाकर इस व्यवस्था को बचाकर रखा जा सकेगा ? मजदूर वर्ग की न केवल चेतना में बढौतरी हो रही है बल्कि वह नए सिरे से संगठित होकर अपने हितों की दुश्मन, इस पूरी पूंजीवादी व्यवस्था को, इसे इसके अंजाम – इसके लिए इतिहास में सुरक्षित कचरा पेटी – के हवाले करने के लिए चाक-चौबंद हो रहा है.