होन्डुरस की घटनाओं ने खोली बुर्जुआ लोकतंत्र की पोल

Posted on Updated on

एक करोड़पति जमींदार राष्ट्रपति जिसका जुर्म था कि उसने अपने देश को अमेरिकन पक्षीय खेमें से निकाल लिया और  लैटिन अमेरिका के बाएं मुहाज के खेमे से हाथ मिलाया और लोक-पक्षीय सुधारों की शुरुआत करना करना शुरू की, के जबरन तख्तापलट के विरुद्ध लोगों के प्रतिरोध के फूटने के क्रांति में परिवर्तन होने की संभावना की और संकेत किये जा रहे हैं.

honduras resists

३० सितंबर को अर्जन्टीना के दैनिक ‘कलारिन’ में वर्तमान राष्टपति रोबर्टो माईकलेटी जिसने चुने हुए राष्ट्रपति मैन्युल जेलाया को मिलट्री एक्शन द्वारा जबरन हटा दिया का बयान प्रकाशित हुआ ,” हमने जेलाया को हटा दिया क्योंकि वह लेफ्टिस्ट था… इससे हम परेशान थे.

लेकिन जबरन हटाये गए राष्ट्रपति मैन्युल जेलाया जिनका  बन्दूक की नोक पर अपहरण  किया गया और रिका के तट पर निर्वासित कर दिया गया, के सौ दिन बाद भी नए राष्ट्रपति रोबर्टो माईकलेटी की परेशानियों में कमी नहीं आई है. जेलाया वापस देश आ गए हैं और वहां ब्राजील के दूतावास में शरण लिए हुए हैं. इस घटना से सक्रीय हुए लोगों के होठों पर अपने राष्ट्रपति की पुनर्बहाली के अलावा और भी मांगे हैं.

निरंतर सख्त दमन के बावजूद लोगों का शांतिपूर्वक विरोध, हड़तालें और रास्ता रोको आन्दोलन जारी हैं. Honduras Resists की २ अक्टूबर की रिपोर्ट के अनुसार ४००० लोगों को बंदी बनाया जा चूका है और १७ मारे गए हैं जबकि गैर सरकारी आंकडा इससे कहीं बड़ा है. इसी ब्लॉग पर लिखने वाली मारिया रीटा मैटामोरोस कहती हैं कि उन्हें प्रतिरोध के कारण प्राकृतिक संसाधन और पर्यावरण के सचिवालय से अपने पद से हटा दिया गया. वे कहती हैं,

“मुझे इसलिए अपने पद से हटा दिया गया कि चारों तरफ प्रतिरोध करनेवाले लोगों का दमन जारी है. लोग अपना देश बचाने की भावना से ओतप्रोत हैं. हमें लगता है कि हम न्याय के लिए लड़ रहे हैं. राष्ट्रपति जेलाया वे व्यक्ति थे जो गरीब लोगों के पक्ष में खड़े थे. उनका एकमात्र जुर्म गरीबों की मदद रहा है. वे लोकप्रिय थे. वे गरीब लोगों के साथ बैठ जाया करते थे. उनको ये बातें नागवार लगी. जेलाया ने अन्य राष्ट्रपतियों के उल्ट देश के पूंजीपतियों के इशारों पर चलने से इंकार कर दिया. और उन्होंने उसे उसकी औकात दिखा दी.

जिस लोकतंत्र की बड़ाई का व्याख्यान करते बुर्जुआ बुद्धिजीवी कभी नहीं थकते यही है उसकी असलियत. चिली, इंडोनेशिया  और नेपाल के बाद अब होन्डुरस ने भी इस तथ्य को उजागर कर दिया है कि जब भी किसी बुर्जुआ राज्य की मेहनतकश इस लोकतंत्र द्वारा अपने एजेंडा को लागू करने की कोशिश करती है, उसे सत्ता से बाहर कर दिया जाता है. नेपाल में माओवादी जब भी कोई लोकपक्षीय कार्रवाई करना चाहते थे, अन्य दलों के लोग एकसाथ खड़े होकर उनका विरोध कर देते थे.

मारिया रीटा मैटामोरोस कहती हैं,” वे हमारा दमन कर रहे हैं. यह लोकतंत्र नहीं है. लोकतंत्र का मतलब होता है शांति, संवाद और एक-दूसरे की बात सुनना. मेरा मानना है कि यहाँ कोई लोकतंत्र नहीं है. यहाँ केवल दमन है. और जो ‘राष्ट्रपति’ यहाँ बैठा है वह हथियारों के बल विराजमान हुआ है. लोग उसे नहीं चाहते. उस जैसा व्यक्ति शासन नहीं कर सकता क्योंकि वह सहनशील नहीं है.”

प्रतिरोध का हिस्सा होने के कारण २१ दिनों तक हिरासत में रही प्रोफ़ेसर अगुस्तिना फ्लोरेस लोपेज़ ने बताया कि ,” मेरी रिहाई की शर्तों में एक यह है कि मैं स्वयं को इस प्रतिरोध से दूर रखूँ और ज़लाया की बहाली के आन्दोलन से दूर रहूँ.  परंतु सलाखें मुझे चुप नहीं करा सकती  और जेल ने मेरे विश्वास को नहीं तोडा है. मैं समझती हूँ कि काम करने के कई तरीके हो सकते हैं. मेरे कार्यस्थल पर  और मेरे घर के पास भी आन्दोलन शुरू किया जाना है और गृहणियों के साथ मिलकर संविधान सभा की जीत तक संघर्ष करना है जिससे लोगों की उम्मीदें जुडी हुई हैं.”

इस तख्तापलट के विरूद्व नेशनल प्रतिरोध फ्रंट FNRG  के अध्यक्ष गिल्बर्टो रिओस ने,  ग्रीन विकली पत्रिका’ को बताया कि यह प्रतिरोध संगठित और मज़बूत है और होन्डुरस की मुक्ति के लिए सबकुछ करने को तैयार है. रिओस आगे कहते हैं ” स्पष्ट है कि यह प्रतिरोध मेहनतकश वर्ग चरित्र धारण किये हुए है. देश के  उपरी तबके की बहुसंख्या तख्तापलट के पक्ष में हैं लेकिन वे कुल जनसँख्या के मुकाबले में अल्पसंख्यक हैं. निचले तबके के लोग बहुसंख्या में हैं. उनकी तादाद ६५ प्रतिशत है. वे गरीबी में जी रहे हैं. वे इस तख्तापलट के प्रतिरोध के साथ अभेद हो गए है”

प्रतिरोध की मुख्य मांगों में पूर्व राष्ट्रपति जेलाया की बहाली और संविधान सभा का गठन है ताकि नए लोकतान्त्रिक संविधान को दोबारा लिखा जा सके.

honduras

FNRG ने मजदूरों, किसानों और अन्य लोकप्रिय जमातों का कामयाबी के साथ नेतृत्व किया है. इसने परिवर्तनकारी शक्तिशाली बल का रूप ले लिया है. इसके एक लाख से भी अधिक कार्यकर्त्ता सक्रीय रूप से काम कर रहे हैं.

इस तीव्र वर्ग संघर्ष ने तेगुसिगल्पा के पास-पडौस और सारे देश की गरीब बस्तियों को जगा दिया है. जमीन से जुड़े हुए हजारों कार्यकर्त्ता लोगों की रहनुमाई कर रहें हैं.

तेगुसिगल्पा के केंद्र में प्रदर्शन करने और पास-पडौस में इसे जनाक्रोश के साथ मिलाने के रणकौशल से विश्वास हो गया है   कि लोगों ने इस प्रतिरोध का सन्देश पूरी तरह ग्रहण कर लिया  है. इसने दूर की बस्तियों में प्रदशर्न करने के रास्ते खोल दिए हैं और वहां के लोगों ने शहर के दमन से मुक्त “स्वतन्त्र ज़ोन” की घोषणा करनी शुरू कर दी है. यहाँ रात को युद्ध जैसी स्थिति हो जाती है. प्रतिरोध को दबाने के लिए पुलिस दमन की नीति अपनाई जाती है जिसके परिणामस्वरूप नेतृत्व के लिए स्थानीय लोगों की और अधिक संख्या  आगे बढ जाती है.

रिओस नोट करते हैं कि जब पुलिस प्रतिरोध का दमन करने के लिए लोगों के घरों में घुस जाती है तो वे लोग जो अबतक इस लहर के प्रति तटस्थ थे, लहर का भाग बन जाते हैं.

रिओस कहते हैं कि मध्यम श्रेणी और छोटे और मझोले व्यवसायिक लोग जो तानाशाही सरकार के कारण तबाह होने शुरू हो गए है , धीरे-धीरे इस आन्दोलन में आने शुरू हो गए हैं.

लोगों के प्रतिरोध ने इस तख्तापलट सत्ता और इसके समर्थकों लिए एक बड़ा संकट खडा कर दिया है. देश की अर्थव्यवस्था को करोडों डालरों का घाटा हररोज सहना पड़ रहा है.

बदहवास सत्ता, जिसके बढ़ती हुई आन्तरिक कलह के चिह्न भी दिखने लगे हैं, ने २९ नवंबर के निर्धारित आम चुनावों तक सत्ता से चिपके रहने की इच्छा जाहिर की है जबकि बाएं मुहाज की लैटिन अमेरिका की सरकारों ने अंतर्राष्ट्रीय समुदाय से इस सत्ता द्वारा निर्धारित चुनावों के विरोध की अपील की है.

वर्तमान सत्ता और जेलाया के बीच संवाद की कई कोशिशे हो चुकी हैं लेकिन उन्होंने FNRG की तरह अपने पद पर बहाली की शर्त पर ही संवाद होने का यकीन दिलाया है. जेलाया ने बातचीत के लिए FNRG से पॉँच सदस्य टीम का गठन किया है.

बातचीत के लिए अमेरिकन राज्यों के संगठन  की ओर से गठित शिष्टमंडल का उद्देश्य ‘सेन संधि’ के लिए सम्रर्थन जुटाना है जिसमें जेलाया की बहाली शामिल है लेकिन यह एक शक्ति के बँटवारे का समझौता है जिसमें तख्तापलट करने वाले लोगों की सुरक्षा सुनिश्चित की गयी है.

अमेरका जो इस तख्तापलट को हवा देता रहा है,इस संधि द्वारा समय लेना चाहता है ताकि इस दौरान  लोगों के इस वर्ग संघर्ष को अलग-थलग किया जा सके.

Advertisements

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s